मुख्य बातम्या:
बुद्ध भूमि उमरी कटंगी में हुआ अंतरराष्ट्रीय बौद्ध मैत्री सम्मेलन# #अजीत जोगी नहीं लड़ेंगे चुनाव# #गडचिरोलीतील गोवारी समाज आंदोलनाला खा.नेतेंची भेट# #बेशिस्त वाहन पार्किंगवर होणार कारवाई निवारण कक्षाला माहिती देण्याचे आवाहन# #अवैैध वाळू वाहतूक करणाऱ्या टिप्परने उडवले शेतकऱ्याला# #न्यायालयाच्या निर्णयाची अमंलबजावणी करा- गोवारी समाजाची मागणी# #अवैध लोहखनीज उत्खनन विरुद्ध वनविभागाची कार्यवाही तीन ट्रक जप्त# #बालवाडी कर्मचारीओंका 20 अक्तूंबर को सम्मेलंन# #अन्न व नागरी पुरवठा मंत्री गिरीश बापट शनिवार व रविवारला गोंदियात# #पुलवामामध्ये जवानांवर दहशतवादी हल्ला, 7 जवान जखमी

कांग्रेस ने 2019 चुनाव में गठबंधन के संकेत दिए

नई दिल्ली.महाधिवेशन के पहले दिन ही कांग्रेस ने संकेत दिए हैं कि 2019 में पार्टी गठबंधन कर सकती है। पार्टी ने कहा कि वो 2019 में भाजपा और संघ को हराने के लिए अपने जैसी सोच वालों के सहयोग को लेकर व्यावहारिक नजरिया अपनाएगी। बता दें कि आज कांग्रेस के 84वें अधिवेशन की शुरुआत हुई है, यहां कांग्रेस अगले पांच साल के लिए अपनी रणनीति तय करेगी।पार्टी रिजोल्यूशन में कहा गया, “अपने जैसी सोच वाले दलों के साथ सहयोग को लेकर पार्टी व्यावहारिक नजरिया अपनाएगी। इसके साथ ही साझा प्रोग्राम चलाए जाएंगे, ताकि भाजपा-संघ को 2019 में हराया जा सके।’

अधिवेशन में और कौन से मुद्दे उठे?
– पार्टी ने ईवीएम का मुद्दा भी उठाया। रिजोल्यूशन में कहा गया, “इलेक्शन कमीशन के पास ये संवैधानिक अधिकार है कि वो चुनाव निष्पक्ष और सही तरीके से कराए। साथ ही वोटिंग और काउंटिंग की प्रक्रिया भी पारदर्शी रखने का अधिकार है, ताकि लोगों का चुनावी प्रक्रिया में विश्वास बना रहे। लोगों और पार्टियों में ये शक है कि ईवीएम के गलत इस्तेमाल के जरिए जनता के फैसले को प्रभावित किया जा रहा है।’ कांग्रेस ने चुनावी प्रक्रिया में विश्वास को बनाए रखने के लिए पुरानी बैलट व्यवस्था को वापस लाने की भी बात की।

Share