मुख्य बातम्या:

अबूझमाड़ में 60 नक्सलियों ने किया सरेंडर,चिंतागुफा मे सड़क पर डाल दिए टूटे खंभे

रायपूर(न्यूज एजंसी),दि.26।रविवार को महाराष्ट्र के गढ़ चिरौली के जंगलों ने 25 से ज्यादा नक्सलियों के मारे जाने के बाद छत्तीसगढ़ में भी बौखलाहट साफ दिख रही है। सुरक्षाबलों को यहां अलर्ट कर दिया गया है। अनुमान है कि बौखलाए नक्सली किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में होंगे। वही छत्तीसगढ़ में नक्सल विरोधी अभियान के तहत पुलिस को बड़ी सफलता मिली है।

यहां के नारायणपुर जिले में अबूझमाड़ इलाके के 60 नक्सलियों ने बस्तर क्षेत्र के आईजी विवेकानंद सिन्हा,  डीआईजी रतनलाल डांगी सहित आईटीबीपी के आलाधिकारी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। पुलिस ने इनके पास से भारी मात्रा में हथियार भी बरामद किए हैं। जिसमे 40 युवक और 20 युवतिया है शामिल 7 भरमार बन्दूक के साथ किया समर्पण ,नक्सलियो की रणनीति से तंग आकर किया समर्पण शासन की राहत एवम ,पुनर्वास नीति का मिलेगा लाभ ।ये नक्सली की रणनीतियों से तंग थे, लगातार प्रताड़ित हो रहे थे, इसलिए सभी ने हथियार छोड़कर मुख्य धारा में लौटना चाहते थे। इसके लिए वो पुलिस से संपर्क में भी थे। सरेंडर किए गए नक्सलियों में 20 महिला नक्सली भी शामिल हैं।

सुकमा।नक्सलियों ने चिंतागुफा और बुर्कापाल के बीच मार्ग पर पत्थर, लकड़ी और बिजली के खंभे तोड़कर रख दिए थे और मार्ग बंद कर दिया था। सुबह सुरक्षा बल वहां पहुंचे और मार्ग को साफ कराया। हालांकि अभी भी रास्ते पर आवागमन नहीं हो पा रहा है। नक्सलियों ने रास्ते पर आवागमन न करने की चेतावनी दी है। ध्यान देने वाली बात है कि अक्सर नक्सली लोगों में दहशत फैलाने के लिए यात्री बसों में आग लगा देते हैं।चिंतागुफा से बुर्कापाल के बीच रविवार से ही आवागमन नहीं हो रहा है। यहां नक्सलियों ने लोगों को चेतावनी दी थी और 26 अप्रैल को बंद का ऐलान किया था। इधर नक्सलियों के बंद के ऐलान से सुरक्षा बल भी मुस्तैद हैं। गुरुवार को सुरक्षाबल मौके पर पहुंचे और रास्ते को साफ कराया, लेकिन आवागमन शुरु नहीं हो पाया।

Share